धनबाद में एयरपोर्ट बनने से कोई नहीं रोक सकता:--- ढुलू महतो

VijaySharma
0

धनबाद: मिशन एयरपोर्ट धनबाद समूह की टीम सांसद महोदय ढुल्लू महतो से उनके चिटाही धाम स्थित आवास में मुलाकात कर के नागरिक अभिनन्दन सह दायित्व ग्रहण समारोह में आमंत्रित की. सांसद महोदय ने मिशन एयरपोर्ट धनबाद समूह के अथक प्रयास की भूरी-भूरी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि मैं 15 साल से विधायक हूं। जनता ने किसी भी मुद्दे पर इतना बडा आंदोलन, मांग नहीं किया। मिशन एयरपोर्ट धनबाद समूह ने जगह-जगह जाकर जन संपर्क किया, पोस्ट कार्ड लिखवाया, धरना प्रदर्शन किया। कई बार मुझसे मिलने आएं। सब कुछ मेरे ध्यान में है. चुनावी दौरे में कई जगह लोगों ने एयरपोर्ट धनबाद में बने इसकी मांग रखी। जनता ने भी इसके लिए आवाज बुलंद किया। नतीजा है कि अब धनबाद में एयरपोर्ट बनने से कोई नहीं रोक सकता है। 
     मिशन एयरपोर्ट धनबाद समूह ने एयरपोर्ट धनबाद में बने इसके लिए चुनावी भाषण के अलावा नागरिक उड्डयन मंत्री से मुलाकात कर, उपायुक्त से जमीन के लिए बात करने पर हर्ष व्यक्त किया और धन्यवाद दिया।
     सांसद ने सबसे ऐसे ही समूह बनाकर मांग रखने का प्रयास करने को कहा। प्रस्तावित नागरिक अभिनंदन सह दायित्व ग्रहण समारोह के लिए उन्होंने आभार जताया लेकिन उस दिन बोकारो में कार्यक्रम होने के कारण आने मे असमर्थता जताई।
      सांसद महोदय ने कहा कि एयरपोर्ट एक बडा काम है। इसके लिए तसल्ली से चर्चा और योजना बनाने की जरुरत है। मुझे भी समझने के लिए थोड़ा समय दे। जैन साहब आप तो पिछले दो साल से लगे हुए हैं। आपकी लेखनी, सोच लगन की जितनी तारीफ की जाए कम है।
       नागरिक अभिनन्दन की सोच सही है पर एयरपोर्ट के लिए पूरी योजना बनाई जाएं और उस पर अमल के लिए एक टीम तैयार हो। जो उसकी देख रेख करे। उसके बाद ही नागरिक अभिनंदन सह दायित्व ग्रहण समारोह आयोजित करना ज्यादा अच्छा रहेगा। सांसद ने निमंत्रण पत्र को ऑफिस में जाकर देने को कहा। ताकि आगे भी काम हों सके। बहुत दूर तक साथ चलना है।
     उन्होंने मिशन एयरपोर्ट धनबाद को अन्य मुद्दों पर भी ध्यान देने को कहा। उन्होंने कहा जो जोश और जुनून इस समूह मे हैं, उसका सदुपयोग अन्य समस्या के समाधान के लिए भी होना चाहिए. 
      इस मौके पर मिशन एयरपोर्ट धनबाद के अनिल कुमार जैन, इमरान मलिक, आशुतोष रजक (मुखिया) बडा पिछड़ी, अशोक चौधरी, जयेश मेहता, धीरज रवानी, रवींद्र सिंह, मुकेश यादव आदि थे.

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)