ईसीएल मुगमा क्षेत्र के लखीमाता कोलियरी प्रबन्धन की कथित लापरवाही के कारण अंडरग्राउंड ब्लास्टिक के दौरान तीन मजदूर घायल, सांकतोडिया अस्पताल में भर्ती, खतरे से बाहर

VijaySharma
0


 निरसा  बुधवार को ईसीएल मुगमा क्षेत्र के लख्खीमाता कोलियरी के बीपी सिम में मजदूर पहली पाली में कोयला उत्पादन हेतु उतरे। मजदूरों ने जैसे ही होल किया पहले से लगे बारूद विस्फोट कर गया जिससे तीन मजदूर घायल हो गए । घायलों को तत्काल सांकतोडिया अस्पताल ले जाया गया जंहा डॉक्टरों ने खतरे से बाहर बताया। *घायलों में कुलदीप सिंह, मनाल माझी, व सुरेश मुंडा शामिल है।* 
प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगलवार को तृतीय पाली में बारूद लेकर मजदूर खदान में गए, ब्लास्ट किया जिसमें एक दो बारूद ब्लास्ट नही हुआ जिसकी जांच माइनिंग सरदार द्वारा नही की गई जिसके कारण आज बुधवार को उसी होल में पुनः होल करने के दौरान बारूद विस्फोट कर गया जिसके उक्त तीनों मजदूर घायल हो गए। जब विस्फोट हुआ उस समय माइनिंग सरदार एमडी मुख्तार, इंचार्ज सुरेश साह मौजूद थे। घटनां कि सूचना मिलते ही कोलियरी प्रबन्धक आरसी नायक अपर प्रबंधक शशि भूषण कुमार घटनास्थल पर पहुंच घायलों को तत्काल सांकतोडिया अस्पताल  पहुंचाया। डॉक्टरों के अनुसार टीनों मजदूर खतरे से बाहर हैं। घटनां के सम्बंध में बताया जाता है कि माइनिंग सरदार व इंचार्ज की कथित लापरवाही से घटनां घटी। यह तो भगवान का शुक्र है कि घायल तीनों मजदूर बच गए अन्यथा अनहोनी घटनां से इनकार नही किया जा सकता। ट्रेड यूनियन नेताओं ने प्रबन्धन के कथित लापरवाही का नतीजा बताया, कहा कि सुरक्षा को दरकिनार कर प्रबन्धन उत्पादन कर रही है बड़ी घटना घटने से बच गई नहीं तो तीनों मजदूरों की मौत घटना स्तर पर हो जाती ।

घटनानस्त पर पहुचने वाले ट्रेड यूनियन नेताओं में गणेश धर, जे सीएमयू लखी सोरेन, राष्ट्रीय कोलियरी मजदूर यूनियन इंटक शशि भूषण तिवारी, केएमसी एस पी चौहान, एस सी एस टी ओबीसी आदि शामिल थे।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)