हर्षोल्लास के साथ संपन्न हुआ पंच दिवसीय प्रथम निकुंज उत्सव

VijaySharma
0

वृंदावन । वृंदावन परिक्रमा मार्ग के आजाद पानी घाट क्षेत्र स्थित घमंड देवाचार्य पीठ चैनबिहारी कुंज में चल रहे पंच दिवसीय महंत रूप किशोर दास मुखिया जी महाराज के प्रथम निकुंज महोत्सव के समापन दिवस पर प्रातः कालीन बेला में वृंदावन के साधु संतों के द्वारा समाज गायन गाकर महंत रूप किशोर दास महाराज को श्रद्धांजलि अर्पित की।
इस मौके पर विस्तृत जानकारी देते हुए घमंड देवाचार्य पीठ चैन बिहारी कुंज आश्रम के महंत वेणुगोपाल दास महाराज ने बताया की इस वर्ष पूज्य गुरुदेव का प्रथम निकुंज महोत्सव बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया गया है। जिसमें सुदर्शन महायज्ञ, भक्तमाल कथा, समाज गायन और रासलीला का आयोजन किया गया। आज निकुंज उत्सव के समापन दिवस पर वृंदावन के गण मान्य संतों के सानिध्य में महाराज श्री की प्रतिमा को आश्रम परिसर में स्थापित किया गया है और वृंदावन के संत महंतो का स्वागत विद्युत सम्मेलन एवं ब्रजमंडल के सभी संतों के वृहद भंडारे का आयोजन हुआ है। 

गोलोकधाम के महंत गोपाल शरण देवाचार्य महाराज ने कहा कि पूज्य महंत रूप किशोर दास मुखिया जी महाराज बड़े ही सरल स्वभाव के संत थे। उन्होंने सदा ही प्रिया प्रीतम की साधना और भक्ति में अपना जीवन व्यतीत किया। उन्होंने जिस तरीके से निंबार्क संप्रदाय से जुड़े विद्यार्थियों के जीवन में एक नई रोशनी प्रदान की वह बहुत ही सराहनीय है।
अंतर्राष्ट्रीय राम कथा प्रवक्ता संत विजय कौशल महाराज ने बताया कि पूज्य गुरुदेव समाज गायन के मुखिया थे। उनके द्वारा सदा ही समाज गायन के जरिए प्रिया प्रीतम से लाड लड़ाया गया। उनका प्रथम ने निकुंज महोत्सव बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया है।
वही इस मौके पर चतु संप्रदाय विरक्त वैष्णव परिषद के श्रीमहंत फूलडोल बिहारी दास, पीपा द्वाराचार्य बलराम दास महाराज, नाभा पीठाधीश्वर सुतीक्ष्ण दास, हेमकांत शरण देवाचार्य, महामंडलेश्वर आचार्य राधा प्रसाद देव जू, महंत मोहिनी बिहारी शरण, कुंज बिहारी दास आदि मौजूद रहे।
रिपोर्ट आशुतोष शर्मा

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)