जिला स्तरीय पड़ोस युवा संसद कार्यक्रम का आयोजन

VijaySharma
0


धनबाद   बिनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय में नेहरू युवा केंद्र धनबाद द्वारा "जिला स्तरीय पड़ोस युवा संसद" कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में माननीय सांसद श्री पशुपतिनाथ सिंह,  तथा अन्य अतिथियों के रूप में बिनोद बिहारी महतो कोलांचल विश्वविद्यालय के कुलपति श्री रमेश पोद्दार, छात्र कल्याण संकाय की विभागाध्यक्ष डॉ पुष्पा कुमारी, स्नाकोत्तर हिंदी विभाग से डॉ मुकुंद रविदास , उर्दू विभाग से डॉ मौसूफ अहमद, युवा नेता एवं समाजसेवी श्री अरुण राय आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों के 800 से अधिक युवाओं ने अपनी प्रतिभागिता दी। माननीय सांसद महोदय द्वारा युवाओं को भारत सरकार के "विकसित भारत @ 2047 " के लक्ष्य से अवगत किया गया। सांसद महोदय ने माननीय प्रधानमंत्री के विकसित भारत की परिकल्पना को पूरा करने हेतु युवाओं से उनके सुझाव मांगे। माननीय सांसद द्वारा प्रतिभागी युवाओं को हाल के वर्षों में देश में विभिन्न क्षेत्रों में हुई सामाजिक एवं आर्थिक प्रगति से भी अवगत कराया गया। कुलपति डॉक्टर रमेश पोद्दार द्वारा युवाओं से ऐसे कार्यक्रमों का लाभ उठाते हुए उन्हें अपने नेतृत्व क्षमता में विकास करने हेतु प्रेरित किया गया।  जिला युवा अधिकारी रवि कुमार मिश्रा ने प्रतिभागी युवाओं को कार्यक्रम के उद्देश्यों से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि "जिला स्तरीय पड़ोस युवा संसद कार्यक्रम" के माध्यम से युवाओं को ऐसे विषयों से जो कि उनके सर्वांगीण विकास को प्रभावित करते हैं, अवगत करते हुए उनकी नेतृत्व क्षमता में विकास करना है।  जिला युवा अधिकारी द्वारा युवाओं को भारत सरकार के युवाओं  को समर्पित नए स्वायत्त संगठन "मेरा युवा भारत" से भी अवगत कराया गया। छात्र कल्याण संकाय की विभागाध्यक्ष डॉ पुष्पा कुमारी द्वारा युवाओं को नारी सशक्तिकरण के विभिन्न पहलुओं से अवगत कराया गया । श्री अरुण राय ने युवा शक्ति को राष्ट्र शक्ति की संज्ञा देते हुए युवाओं से एक बेहतर भविष्य निर्माण हेतु आह्वान किया । कार्यक्रम के दौरान सभी प्रतिभागी युवाओं को "मतदाता जागरूकता" एवं "विकसित भारत" शपथ भी दिलाई गई। स्नाकोत्तर हिंदी विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ मुकुंद रविदास द्वारा मंच संचालक की भूमिका निभाई गई। अतिथियों के उद्बोधन के उपरांत सभी प्रतिभागियों हेतु "उच्च शिक्षा में हिंदी की अनिवार्यता" विषय पर मॉक पार्लियामेंट का आयोजन किया गया। जिसमें विभिन्न युवाओं ने उच्च शिक्षा में हिंदी की अनिवार्यता के पक्ष तथा विपक्ष में अपने अपने विचार रखें। मॉक पार्लियामेंट में सभापति की भूमिका कृष्णानंद मिश्रा ने निभाई। कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन में राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवकों पन्नालाल, लालजी अमन, बंटी, स्पर्श , बलराम इत्यादि की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)