महर्षि दयानंद सरस्वती के 200वी जयंती पर बैजना गुरुकुल में यज्ञ हवन का आयोजन

VijaySharma
0


निरसा- महर्षि दयानंद विद्यापीठ ट्रस्ट के तत्वाधान में बैजना आर्य गुरुकुल परिसर में महर्षि दयानंद सरस्वती जी की 200वीं जयंती पर वैदिक यज्ञ किया। बच्चो को पाठ्य सामग्री निशुल्क वितरण किया। राजार्य सभा प्रदेश अध्यक्ष हरहर आर्य ने वैदिक मंत्रोच्चारण किया। हरहर आर्य ने कहा महर्षि दयानन्द का समाज सुधार में व्यापक योगदान रहा। महर्षि दयानन्द ने तत्कालीन समाज में व्याप्त सामाजिक कुरीतियों तथा अन्धविश्वासों और रूढियों-बुराइयों व पाखण्डों का खण्डन व विरोध किया। उनके ग्रंथ सत्यार्थ प्रकाश में समाज को आध्यात्म और आस्तिकता से परिचित कराया। वे योगी थे तथा प्राणायाम पर उनका विशेष बल था। वे सामाजिक पुनर्गठन में सभी वर्णों तथा स्त्रियों की भागीदारी के पक्षधर थे। उनमें न केवल देशभक्ति की भावना दिखाई देती थी बल्कि वह तो 1857 के स्वतंत्रा संग्राम में भाग लेने वाले अग्रिम लोगो में थे। संरक्षक डॉ देवाराम सोलंकी, सचिव डॉ यशवंत सिंह, सुजीत कुमार, सरिता देवी, गौरी देवी एवं गुरुकुल के बच्चो उपस्थित थे।
रिपोर्ट रिंकू सिन्हा 

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)