टाटा डीएवी स्कूल जामाडोबा में आयोजित विदाई समारोह में बारहवीं के छात्रों को दी गई विदाई

VijaySharma
0

जोड़ापोखर (धनबाद):  टाटा डीएवी जामाडोबा में बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों का विदाई समारोह बडे ही धूमधाम से मनाया गया। इस समारोह का आयोजन ग्यारहवीं के छात्रों ने मिलकर किया। समारोह का शुभारम्भ पवित्र यज्ञ के द्वारा हुआ। जिसमें प्राचार्य अनुज कुमार मिश्रा तथा विद्यालय के सभी शिक्षक सहभागी बने। यज्ञ की वेदी पर विद्यार्थियों के माता- पिता की उपस्थिति ने वहाँ उपस्थित सभी को भावविभोर कर डाला। सभी ने बडे ही श्रद्धाभाव से अपने बच्चों के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए अग्नि देवता को अपनी आहुतियाँ समर्पित कीं।

यज्ञ की समाप्ति पर सभी विद्यार्थियों का जीवन फुलों की तरह पुष्पित और सुगन्धित रहे इस भावना के साथ विद्यालय के प्राचार्य ए के मिश्रा,सभी शिक्षक एवं अभिभावकों ने मन्त्रोच्चार के बीच सुगन्धित पुष्पों की बौछार के साथ उन्हें आशीर्वाद दिया। इस  क्षण में सभी छात्र भावुक हो उठे। आशीर्वाद के बाद ग्यारहवीं के छात्रों ने बडे ही उत्साह  के साथ कई मनोरंजक नृत्य तथा संगीत की प्रस्तुति से समां बाँध दिया।

छात्रों ने संगीतमय अभिनय का सामूहिक मंचन किया।बच्चों के उत्साह को देखते हुए शिक्षक भी खुद को न रोक पाये।शिक्षक हरीश्चन्द्र मिश्रा, श्रुति पाठक,संतोष कुमार, रूपा कुमारी,महेश मंडल ने भी अपने मधुर गीतों से सबको मन्त्रमुग्ध कर डाला।

मनोरंजक प्रस्तुति के बाद प्राचार्य अनुज कुमार मिश्रा ने विदा ले रहे सभी छात्रों को विद्यालय की तरफ़ से स्मृतिचिन्ह भेंट किया। जिसे पाकर सभी छात्र गद्-गद हो उठे। राष्ट्रिय स्तर पर उम्दा प्रदर्शन हेतु खेलकूद में सर्वोत्तम खिलाड़ी का पुरस्कार विजय कुमार यादव एवं ज्योति कुमारी को दिया गया। सांस्कृतिक गतिविधियों में सर्वोत्तम प्रदर्शन हेतु अदिति कुमारी एवं वैष्णवी शुक्ला को पुरस्कार दिया गया। कक्षा में सर्वाधिक उपस्थिति हेतु अबु नुमान खान और रिया धर को पुरस्कार दिया गया। शैक्षणिक स्तर पर सर्वोत्तम प्रदर्शन हेतु श्रेया कुमारी और आर्यन कुमार को पुरस्कृत किया गया। सर्वोत्तम अनुशासन का पुरस्कार आनन्दराज कुमार और बुशरा रिज़वान को मिला। मास्टर डीएवी और मिस डीएवी का पुरस्कार क्रमशः अतुलानन्द सहाय और आशिया ज़रा को दिया गया ।

प्राचार्य अनुज कुमार मिश्रा ने छात्रों को संबोधित करते हुये कहा कि आप सभी जीवन के उस पड़ाव पर पहुँच गये हैं जहाँ आपको अपने जीवन की दशा और दिशा सही रखने के लिये स्वयं संघर्ष करना है, लेकिन याद रखना आप अकेले नहीं हैं आपके जीवन में माता-पिता और शिक्षकों का आशीर्वाद संबल का कार्य करेगा।आज के दिन विशेष उल्लेखनीय बात यह रही कि डीएवी के संस्थापकों में से एक कर्मयोगी महात्मा नारायणदास ग्रोवर की आज पुण्यतिथि थी। इस अवसर पर प्राचार्य तथा पत्रकारों के सानिध्य में डीएवी परिवार के सभी सदस्यों ने महात्मा जी के चित्र पर पुष्पों अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि प्रदान की। छात्रों ने भी सामूहिक रूप से  श्रद्धांजलि देते हुए उनके प्रति कृतज्ञता का भाव प्रकट किया।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)