रामकली देवी सरस्वती विद्या मंदिर में धूमधाम से मनाया गया बसंत उत्सव

VijaySharma
0


वृंदावन  रामकली देवी सरस्वती विद्या मंदिर सीनियर सेकेंडरी स्कूल केशव धाम में वसंत उत्सव का आयोजन किया गया। इस अवसर पर 51 कुंडीय हवन एवं पूजन किया गया। मंचासीन  अतिथि श्री महेश जी खंडेलवाल अध्यक्ष रामकली विद्यालय श्री अमरनाथ जी गोस्वामी शिक्षाविद और प्रधानाचार्य श्री लोकेश्वर प्रताप सिंह जी ने मां सरस्वती के चित्रपट के समक्ष दीप प्रज्वलन कर किया। कार्यक्रम के आरंभ में ऋतुराज बसंत के अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए श्री बृजेंद्र शर्मा ने कहा के महा मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी पर ज्ञान विज्ञान साहित्य संगीत कला एवं वाणी की अधिष्ठात्री देवी मां सरस्वती का प्राकट्य उत्सव मनाया जाता है। श्री जितेंद्र प्रताप सिंह ने वीर बलदानी बालक हकीकत राय को स्मरण करते हुए कहा के 14 वर्ष की आयु में ही अपने धर्म के प्रति इतनी निष्ठा एवं आस्था थी कि उन्होंने अपना धर्म परिवर्तन स्वीकार नहीं किया और मौत को गले लगा लिया यह घटना मुगलकालीन है ऐसे वीर बालक को उसकी शहादत पर हम सादर नमन करते हैं। प्रधानाचार्य लोकेश्वर प्रताप सिंह जी ने भारतीय संस्कृति के 16 संस्कारों में से प्रमुख विद्यारंभ संस्कार के महत्व को समझाते हुए कहा अपने पाल्य का विद्यारंभ प्राचीन रीति के अनुसार करना चाहिए। पट्टी पूजन एवं हवन का कार्यक्रम श्री राम मोहन शुक्ला ने विधि विधान से संपन्न कराया। इस अवसर पर मुख्य अजमान श्री रविंद्र जी रहे। इस अवसर पर  योगेश जी , प्रेम किशोर जी, दुष्यंत जी ,राजू सिंह ललित कुमार, रेखा रानी श्रीमती शशिवाला ,श्रीमती अर्चना तिवारी, शुचि जी आदि आचार्य और आचार्या उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संयोजन मनोज सारस्वत एवं संचालन बृजेंद्र शर्मा ने किया

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)