सीआईएसफ व पुलिस नें सिंह नगर से छापेमारी कर करीब 100 टन कोयला किया जप्त बीसीसीएल को किया सपूत

VijaySharma
0

झरिया (धनबाद): एसएसपी के कोयला चोरी पर अंकुश लगाने के निर्देश के बाद भी क्षेत्र मे कोयला चोरी चरम पर है।बस कोयला चोरी का केवल थोड़ा सा स्टाइल बदला है।इस बात का खुलासा कुसुंडा सीआईएसएफ ने सोमवार को सिंहनगर मुख्य मार्ग में छापेमारी कर सौ टन कोयला जब्त करने के बाद हुई है। उक्त छापामारी सीआईएफ तथा झरिया पुलिस के संयुक्त तत्वाधान में हुआ।

छापेमारी का नेतृत्व सीआईएसएफ इंस्पेक्टर राजीव कुमार सिंह एवं झरिया थाना के एस आइ अजय कुंडू के नेतृत्व में की गई। छापेमारी के दौरान कोयला चोरों के बीच हड़कंप मच गया।सीआईएसएफ ने जब्त कोयला को बीसीसीएल प्रबंधन को सौंप दिया।बताया जाता है कि राजापुर, दोबारी व बस्ताकोला से कोयला लोड लेकर सैकड़ों हाइवा झरिया केंदुआ मुख्य मार्ग सिंहनगर होकर बीएनआर साइडिंग कुस्तौर और बोरागढ़ साइडिंग जाती है।कोयला लोड लेकर पहुंचे हाइवा को सिंहनगर मे तीन चार जगहों पर रूकवाकर कोयला उतारा जाता है।इसके बाद कोयलाचोर इसे धंधेबाज से बेच देते हैं।इसके बाद धंधेबाज बाइक और साइकिल के माध्यम से अन्यत्र खपाते है।इस मार्ग मे कोयला उतारने के कारण इस मार्ग मे चलने वाले बाइक सवार व राहगीरों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कोयला उतारने के चक्कर में बाइक सवार और राहगीरों पर ही फेक देते है।जिसके चपेट में आकर अबतक कई लोग घायल हो जाते है।

कोयला चोरी के वर्चस्व को लेकर हुआ था धनंजय की हत्याः

बता दे कि यही पर कोयला चोरी मे वर्चस्व को लेकर धनंजय यादव और रामबाबू धिक्कार के बीच कई बार झड़प हो चुकी है।यहां तक की धनंजय की हत्या तक हो गई।धनंजय के मौत और रामबाबू के फरारी के बाद कई अन्य कोयला चोर सक्रिय हो चुके हैं।यहां मुख्य मार्ग मे डंके की चोट पर कोयला चोरी मुख्य मार्ग पर होती है।वहीं कोयला चोर यहां कोयला चोरी कर पुलिस के वरीय पदाधिकारियों को ठेंगा दिखा रही है।प्रतिदिन पचास से साठ टन तक कोयला चोरी होता है।स्थानीय लोगों के शिकायत के बाद भी पुलिस इसे रोकने मे असफल रहा है।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)