रामलला मंदिर जन्मभूमि अयोध्या और वृन्दावन में लगे स्वामी वामदेव महाराज जी की प्रतिमा - सुतीक्षण दास महाराज जी

VijaySharma
0

वृंदा फाउंडेशन के तत्वावधान में भरतपुर कुंज मंदिर वनखण्डी वृन्दावन में राम जन्म भूमि आंदोलन के मुखिया रहे स्वामी वामदेव महाराज जी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर संगोष्ठी का आयोजन हुआ जिसमें  वृन्दावन के कारसेवकों का स्वागत कर अभिनन्दन किया गया ।
      सुदामा कुटी के महंत स्वामी सुतीक्षण दास महाराज जी ने अपने उद्बोधन में स्वामी वामदेव महाराज जी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि स्वामी वामदेव जी महाराज का ही व्यक्तित्व इतना विराट था कि उन्होंने अपने तप की सामर्थ्य से सभी अखाड़ों के संतों को राम जन्मभूमि आंदोलन में एक ध्वज के नीचे एकत्र कर कीर्तिमान स्थापित करते हुए राम जन्मभूमि आंदोलन को विराट स्वरूप प्रदान किया ।
     महंत श्री सुतीक्षण दास महाराज जी ने मांग की है कि अयोध्या में जन्मभूमि परिसर और वृन्दावन में स्वामी वामदेव महाराज जी की मूर्ति की स्थापना होनी चाहिए ।
     कार्यक्रम में अयोध्या जन्मभूमि के हीरो रहे प्रमुख कार सेवक श्री सुरेश बघेल , श्री जगदीश गुरु जी  , श्री हरिओम शर्मा , श्री सत्यभान शर्मा , श्री दान बिहारी खण्डेलबाल , श्री रवि कुमार , श्री मोहन श्याम पचौरी , श्री जगदीश चौधरी का उत्तरीय पहनाकर अभिनन्दन किया गया ।
      समारोह में वृंदा फाउंडेशन की अध्यक्षा श्रीमती मेघना चौधरी जी ने कहा कि राम जी को मंदिर मिल गया है , भाजपा को सत्ता मिल गयी है तो अब रामभक्त कार सेवको को भी उनका हक मिलना चाहिए ।
      श्रीमती मेघना चौधरी जी ने कहा कि यह सत्य है कि रामभक्त कार सेवको ने किसी अपेक्षा , लोभ और प्रलोभन से कार सेवा नही की परन्तु अब सरकार को राम भक्त कार सेवको को शहीद का दर्जा मिलना चाहिए और जीवित राम भक्त कार सेवको को पेंशन मिलनी चाहिए ।
    डॉ देव प्रकाश के संचालन में हुए कार्यक्रम में स्वामी देवेंद्र चेतन्य जी , श्री मारूतिनन्दन वागीश जी , श्री महेश खण्डेलबाल जी , श्री अनूप शर्मा , श्री देवेंद्र शर्मा , श्री अरुण वंशल , श्री आशुतोष , श्री प्रशांत शाह , श्री कैलाश अग्रवाल , डॉ राजेन्द्र मिश्रा , श्री शिव अधार सिंह यादव आदि ने अपने विचार व्यक्त कर स्वामी वामदेव जी महाराज के चित्र पर पुष्प अर्पित कर राम भक्त कार सेवको को सम्मानित किया ।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)