सत्संग सुनने से भगवान की होती है प्राप्ति: सुरेंद्र हरिदास

VijaySharma
0
 
धनबाद: बैक मोड़ टेलीफोन एक्सचेंज रोड योगा पार्क धनबाद झारखंड में आयोजितश्रीमद् भागवत कथा
के समापन दिवस की शुरुआत विश्व शांति के लिए प्रार्थना के साथ की गई।  व्यासपीठ से सुरेंद्र हरिदास जी ने
कहा कि भगवान हर जगह पर होते हैं। 
जिस ने भी कथा को अपने जीवन में उतारा है उन सब का कल्याण हुआ है इसलिए कथा का आनंद लेना चाहिए। 
मनुष्य इतना खुद के करीब नहीं होता जितना भगवान उस मनुष्य के करीब होता है बस  मनुष्य उसको पहचान नहीं पता है और यही मनुष्य का दुर्भाग्य होता है। भगवान की कृपा के अलावा कोई भगवान को जान नहीं सकता है।  
जिसमें समझ नहीं होती है वह बड़े से बड़े इंसान को छोटा ही समझता है लेकिन जो समझदार होता है वह छोटे इंसान को भी बड़ा बनाकर रखता है। भगवान को पाने का रास्ता केवल सत्संग होता है इसलिए मनुष्य के जीवन में सत्संग का बहुत बड़ा महत्व होता है। 

जब समय अच्छा चल रहा होता है जब सारी चीज समज आती है और जब बुरा समय चल रहा होता है तब अच्छी चीज से ही दूरियां बढ़ती हैं। और फिर सुदामा कृष्ण मिलन ,फुलों की होली के साथ कथा विश्राम किया गया।इस कथा को सफल बनाने में प्रमुख रूप से सफल बनाने मे श्री ददन सिंह, संजय सिंह, प्रभात सुरोलिया, सतीश कुमार सिंह, सी पी सिंह, हीरा सिंह, भावेश मिश्रा, वीरेंदर सिंह, महेश सुलतानिया, मोहन अग्रवाल,पवन अग्रवाल,श्रीमती कृष्णा सुलतानिया, दिलीप साव, दीपक तिवारी, श्रवण कुमार, प्रदीप पांडे, धर्मेंदर पांडे, अशोक सिंह ,रणजीत पांडे अप्पू सिंह, राजेश झा, मुन्ना बरनवॉल, सुनील राय, आदि सभी समाज के सहयोग से किया गया।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)