सर्वधम सामूहिक विवाह कार्यक्रम में 89 जोड़े बंधे परिणय सूत्र में,ई वाहन से निकली भव्य बरात,

VijaySharma
0
धनबाद: धनबाद में सर्वधर्म सामूहिक विवाह समिति द्वारा बुधवार  को 89 जोड़ों का दहेज मुक्त विवाह संपन्न कराया गया। समिति के अध्यक्ष प्रदीप सिंह ने बताया कि धनबाद के जिला डेकोरेटर संगठन के अलावे दर्जनों सामाजिक संगठन के सहयोग से बुधवार को हिंदू मुस्लिम  और ईसाई समुदाय से जुड़े 89 जोड़े परिणय सूत्र में बंधें। जिसमें दो जोड़ो का मुस्लिम धर्म  तथा एक जोड़े का ईसाई धर्म  के रीति रिवाज से विवाह करवाया गया।

सामूहिक विवाह को लेकर ई वाहन से भव्य बारात निकाली गई।जिसमें दूल्हा-दुल्हन पक्ष से आए बरतिया के अलावे तमाम सामाजिक संगठनों से जुड़े लोग जमकर नाचते झूमते हुए बारात में शामिल हुए। पूर्व मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल, भाजपा प्रदेश कार्य समिति सदस्य रागिनी सिंह, पूर्व मेयर इंदु सिंह,जेबीकेएस के महामंत्री रणविजय सिंह समाजसेवी उदय प्रताप सिंह के अलावे अनेक सामाजिक संस्थाएं एवं कई गण्यमान्य लोग इस विवाह समारोह में शामिल हुए । 

मौके पर युवा संघर्ष मोर्चा के संस्थापक एवं सर्व धर्म सामूहिक विवाह सह सचिव दिलीप सिंह ने बताया कि समाज से दहेज की कुप्रथा को खत्म करने के लिए सर्वधर्म सामूहिक विवाह समिति के बैनर तले प्रत्येक वर्ष सामूहिक विवाह कराया जाता है। इस बार भी 89 जोड़े एक साथ परिणय सूत्र में बंधें। इस तरह के सामूहिक विवाह से एक ओर गरीब माता-पिता के लिए उनकी बेटियां बोझ नहीं बनेगी और समिति की ओर से नवदम्पति को उनके जीवन यापन के लिए कई तरह की सामग्री भी उपहार स्वरूप दी गई। 

सर्व धर्म सामूहिक विवाह के दसवें साल का इस वर्ष का बहुत ही मनोरम, दर्शनीय भावुक,एवं ऐतिहासिक सामूहिक विवाह के सांक्षी झारखंड राज्य के साथ-साथ अन्य राज्यों के भी लोग गोल्फ ग्राउंड में उपस्थित थे। सर्वधर्म  सामूहिक विवाह के महिला विंग का नेतृत्व कर रही अध्यक्ष प्रदीप सिंह की धर्मपत्नी जया सिंह के नेतृत्व में महिला विंग बहुत ही सक्रिय दिखी।  विवाह के अंत में विदाई समारोह में दूल्हा दुल्हन को विदाई करते समय सभी की आंखें नम थी, ऐसा प्रतीत हो रहा था की  अपनी  बेटी घर से विदा ले रही है और यह यादगार पल बहुत ही भावुक था।

इस दौरान सर्व धर्म सामूहिक विवाह समारोह में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य श्रीमती रागिनी सिंह सम्मिलित हुई एवं नव दांपत्य जोड़ो को उनके विवाह उपरांत अपनी विशेष बधाई एवं शुभकामनाएं दी, साथ ही उन्हें स्मृति चिन्ह भेंट कर उन्हे विदाई दी।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)