छात्रहित को ध्यान में रखते हुए जेनेरिक पेपर की परीक्षा हो: एनएसयूआई

VijaySharma
0


धनबाद:शनिवार  30 दिसंबर को एनएसयूआई के विश्वविद्यालय अध्यक्ष उत्तम कुमार के नेतृत्व में विश्वविद्यालय कमेटी ने डीएसडब्ल्यू से मुलाकात की।मुलाकात के दौरान छात्रहित में दूसरी जेनेरिक पेपर के परीक्षा कराए जाने की बात रखी गई।जहां विश्वविद्यालय अध्यक्ष उत्तम कुमार ने बताया कि 1.स्नातक सत्र (2016-2019) से ( 2019 -2022) तक जेनेरिक पेपर की परीक्षा शुल्क 250 रुपए निर्धारित किया गया है ,जबकि यह शुल्क केवल 100 रुपया होनी चाहिए थी। 2. 20 जनवरी 2024 के बाद प्रतिदिन आवेदन करने का 100 रुपया जुर्माने के तौर पर लिया जाएगा जबकि बहुत से छात्र ऐसे हैं जो कहीं दूर दराज अपने व्यवसाय में लगे हुए हैं, जिसके कारण बहुत से छात्र समय पर फॉर्म नहीं भर पाएंगे। इस बात को ध्यान में रखते हुए विलंब शुल्क को हटाया जाना चाहिए।3.इसके साथ ही सत्र (2020-2023) के छात्रों  का सत्र पूरा हो चुका है तो इन छात्रों का भी परीक्षा साथ ही आयोजन की जानी चाहिए।

इसके साथ ही विश्वविद्यालय उपाध्यक्ष नवाजिश अफजल एंव महासचिव महताब आलम ने विश्वविद्यालय के सफाई पर बात रखते हुए कहा विश्वविद्यालय में साफ सफाई पर ध्यान देने की आवश्यकता है।प्रतिदिन विश्वविद्यालय में साफ सफाई की जानी चाहिए खास तौर पर बाथरूम में विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।छात्रों के सुविधाओं का ध्यान में रखते हुए हेल्पलाइन नंबर को जल्दी अपडेट किया जाना चाहिए।

डीएसडब्ल्यू डॉ. पुष्पा कुमारी ने सभी मामलों को सुनने के बाद कहा कि वह इन मामलों को विश्वविद्यालय के समीक्षा रखकर जल्दी ही कोई निर्णय लेगी।मौके पर  विश्वविद्यालय अध्यक्ष उत्तम कुमार, विश्वविद्यालय उपाध्यक्ष नवाजिश अफजल,विश्वविद्यालय महासचिव,मनीष झा, विश्वविद्यालय सचिव जयप्रकाश  यादव,विश्वविद्यालय महासचिव मेहताब आलम,विश्वविद्यालय कार्यकारणी सदस्य,शिवानी कुमारी तथा तन्नु कुमारी,इशिका,स्नेहंगी मौजूद थे।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)