नाबालिक छात्रा का फोटो वायरल करने के मामले में जोड़ापोखर पुलिस के खिलाफ आंदोलन करने कि दी चेतावनी

VijaySharma
0

जोड़ापोखर (धनबाद)ःफुसबंगला के मनचले युवकों द्वारा पिछले दिनों दसवीं कक्षा कि नाबालिक छात्रा का फोटो अपने साथ जोड़कर वायरल करने एवं राह चलते छेड़खानी कर प्रताड़ित करने के मामले में जोरापोखर पुलिस कि ओर से अभी तक प्राथमिकी दर्ज  कर  अभियुक्तों कि गिरफ्तारी नहीं करने के मामले को नारी समिति कि सदस्यों ने गंभीरता से लेते हुए पुलिस के खिलाफ आंदोलन करने कि चेतावनी दिया है। 

स्वर्णिम नारी शक्ति सुरक्षा फाउंडेशन बोकारो  के अध्यक्ष माया पांडे ने महिला  सदस्यों के साथ   शनिवार को जोरापोखर पूर्णाडीह, भूली क्वार्टर में पीड़ित परिवार के साथ बैठक कर पीड़िता को न्याय दिलाने को संघर्ष करने कि बात कही है । श्रीमती पांडे ने बैठक के बाद पत्रकारों से कही कि कुछ गिने चुने पुलिस अधिकारियों के गलत रवैया के  चलते पुलिस विभाग बदनाम हो रही है। जोरापोखर पुलिस कि रवैया भी उनमें से एक है। पीड़ित छात्रा के साथ हुई शर्मनाक घटना के मामले का तीन  दिन हो गए ,लेकिन पुलिस ने अभीतक ना तो मामला दर्ज किया है ना ही आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई कि है। 

नारी समिति के सचिव रीना तिवारी ने कहा कि पुलिस आरोपियों को संरक्षण देना बंद कर तत्काल कार्रवाई करें अन्यथा बाध्य होकर थाना का घेराव किया जाएगा। बैठक के बाद नारी समिति के एक दर्जन सदस्यों ने थाना प्रभारी बिनोद उरांव से मिलकर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई कि मांग कि है।  

मौके पर नारी समिति के रूबी सिंह ,मालती देवी ,पीड़िता कि मां रहसाल खातून दादी आयशा खातून एवं पीड़ित छात्रा थी। 

मालूम हो कि पीड़ित छात्रा ने फुसबंगला के बादशाह ,राजा ,आमिर एवं अल्लाहरखा के खिलाफ 28 दिसंबर को राह चलते छेड़खानी करने ,उसके फोटो को जोड़कर वायरल करने तथा जान से मारने कि धमकी देने  का आरोप लगाकर पुलिस से लिखित शिकायत कर कार्रवाई  कि मांग  है। 
. .. .. .. .. .. 
वही मामले में  आरोपी कि मां  आशिया खातून एवं पिता नूर मोहमद ने लड़की द्वारा लगाया गए आरोप को बेबुनियाद व झूठा बताते हुए कहा कि  पारिवारिक विवाद में उसके विरोधियों ने 24 नवंबर को घर में घुसकर बेरहमी से मारपीट कर घायल कर घर में लूटपाट करने तथा महिलाओं के साथ अभद्र व्यवहार करने कि घटना का अंजाम दिया था। कई दिनों तक वे लोग सदर अस्पताल में भर्ती रहे। मामला कि प्राथमिकी दर्ज हुई है, विरोधियों द्वारा केस का समझौता करने का दबाव डाला जा रहा है। समझौता नहीं करने के कारण उनलोगों द्वारा उनके दो पुत्रों एवं दो भगिना के खिलाफ जोरापोखर पुलिस से झूठा शिकायत किया है। पुलिस निष्पक्षता से जांचकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करे।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)