एकल अभियान का प्रथम गौ ग्राम कुंभ 2023 का आयोजन23, 24 व 25 दिसंबर को गोल्फ ग्राउंड व न्यू टाउन हॉल में होगा तीन दिवसीय कार्यशाला

VijaySharma
0



धनबाद  कोयलांचल धनबाद नगर के लिए सौभाग्य का विषय है कि एकल गौ ग्राम योजना का अखिल भारतीय प्रथम गौ ग्राम कुंभ धनबाद नगर में आगामी 23, 24, 25 दिसंबर को आयोजित होने जा रहा है। धनबाद क्लब में मंगलवार को एकल अभियान के पदाधिकारियों ने एकल गौ ग्राम योजना का अखिल भारतीय प्रथम कुंभ कार्यक्रमों  की जानकारी देते हुए बताया कि गर्व हो रहा है कि आज जिस एकल विद्यालय की शुरुवात इसी धनबाद से 1989 से हुआ था।आज वह देश के सभी प्रांतों तक 1लाख से भी अधिक गांवों में संचालित होने लगा है।ठीक उसी प्रकार एकल अभियान के ही पंचमुखी शिक्षा का एक आयाम श्रीहरि सत्संग समिति द्वारा गौग्राम  योजना की शुरुआत की गई है।इस योजना के माध्यम से यह प्रयास किया जा रहा है कि भारतीय देशी गायों के नस्ल को कैसे बचाया जाए। किसी  न किसी कारणवश गांव से देशी नस्ल के गाय-बछड़े का पलायन हो रहा है। जिसके कारण  एक और जहां हल वालो की खेती समाप्त हो रही है। वहीं दूसरे और खेतों के लिए आवश्यक उर्वरक गोबर-गोमूत्र की कमी हो रही है, जिस कारण रासायनिक खेती का विस्तार तथा उसका दुष्प्रभाव हम देख रहे हैं।घास बिना दूध देने वाले रही होगी या महानगर की गौशालाओं में अस्वाभाविक जीवन जीने को मजबूर है या फिर कत्लखानों में जाती जा रही है। भारत आज दुनिया का सबसे बड़ा गोवंश का मांस निर्यातक देश बना हुआ है। इन सब विषयों को देखते हुए कि देशी नस्ल की गाये कैसे गांव में बच सके तथा पुनः जैविक खेती पर निर्भर हो और बिना दूध देने वाली बूढ़ी गायों को भी आर्थिक रूप से स्वावलंबी जीवन जीने लायक बनाया जाय ।इसके प्रयास के रूप में गौ ग्राम योजना को शुरुवात हुआ। गौग्राम योजना का नारा है।गाय का घर किसान का घर, गाय बिकेगी नहीं तो कटेगी नहीं।गौ ग्राम योजना के द्वारा नगर की गोशालायों से किसानों के घर तक ऐसी गायो को पहुंचाया जाता है। वहां उनके घर की महिलाओं को प्रशिक्षण देकर उन गायों के गोबर से दीपक तथा धूपबत्ती बनाई जा रही है। इनके लिए सभी परिवारों में दीपक बनाए हेतु सांचा तथा अन्य को सामग्री लगते हैं वह संस्था की ओर से उपलब्ध कराई जाती है। धनबाद, झरिया, कतरास, हजारीबाग, गिरिडीह तथा देवघर की गौशालाओं से अब तक 300 से अधिक गायों को किसानों के घर पहुंचाया जा चुका है। जिसके माध्यम से 300 गांवों के लगभग 3000 परिवारों को प्रशिक्षित कर दीपक, धूपबत्ती तया जैविक खाद बनाने का काम प्रारंभ किया गया है।एकल अभियान ने इस वर्ष दीपावली के त्योहार को गो दीपोत्सव के रूप में मनाने का संकल्प लिया था जिस अवसर पर इन गांवों की महिलाओं द्वारा बनाए गए दीप आई धूपबती देश के विभिन्न महानगरों के लगभग 30000 परिवारों तक पहुंचाए गए और सबों के घरों में गोबर से बने दीप ही जले।गत दो वर्षों के इस सफल प्रयोग को अब देशव्यापी बनाने की योजना है। इस निमित्त धनबाद महानगर में यह गौग्राम कुंभ का आयोजन किया जा रहाlजिसमें विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉ सुब्बाराव साइंटिस्ट इसरो,अश्वनी उपाध्याय एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट,रामदत्त चक्रधर अखिल भारतीय सह सरकार्यवाह रा. स्व. संघ,शंकर लाल आखिल भारतीय गौ ग्राम प्रमुख रा. स्व. संघ,आलोक कुमार अखिल भारतीय सह संपर्क प्रमुख रा. स्व. संघ एवं संपूर्ण देश से एकल अभियान से जुडे नगर संगठन तथा ग्राम संगठन के पदाधिकारी तथा सेवा व्रती कार्यकर्तागण भाग ले रहे हैं।23 दिसंबर को कुंभ में आए सभी प्रतिनिधियों को धनबाद के आस-पास 100 गांव में गौग्राम-वनयात्रा का कार्यक्रम रखा गया है। जहां उन्हें इन गोपालकों से मिलने तथा गौ उत्पाद देखने का प्रत्यक्ष अवसर मिलेगा।24 दिसंबर को धनबाद शहर के गोल्फ ग्राउंड में सार्वजनिक सभा होगी जिसमें धनबाद जिला में चल रहे एकल विद्यालय ग्रार्मो से लगभग 30000 गोपालक एवं किसान भाग लेने वाले हैं। 24 दिसंबर के रात्रि में ही टाउन हॉल में एकल अभियान द्वारा प्रशिक्षित वनवासी कथाकारों द्वारा एकल सुरताल का सांस्कृतिक कार्यक्रमहोगा। 25 दिसंबर को आगंतुक प्रतिनिधियों का तीन दिनों से चल रहे इस कार्यशाला का समापन है।धनबाद नगर में इस कार्यक्रम के प्रति उत्साह निर्माण हो इस हेतु 17 दिसंबर को एक शोभायात्रा का भी आयोजन करने की योजना है। आज के प्रेस वार्ता में महेंद्र अग्रवाला, अध्यक्ष, श्रीहरि गौग्राम योजना (झारखंड),केशव हडोडिया, अध्यक्ष, एफटीएस धनबाद चेप्टर रविन्द्र ओझा, अध्यक्ष, प्रभाग पी3, एकल अभियान, अनुराधा अग्रवाल, अध्यक्ष, महिला समिति धनबाद चैप्टर,आयुष तिवारी, उपाध्यक्ष,एकल फ्यूचर,ललन शर्मा, केंद्रीय अभियान प्रमुख,एकल अभियान,रोहित प्रसाद,
सोमनाथ पूर्ति,नितिन हडोडिया संजय साहू उपस्थित थे।

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)