जनता श्रमिक संघ का प्रयास लाया रंग, 48 घण्टे बाद बीसीसीएल कर्मी मृतक के आश्रित पुत्र को देर रात क्षेत्रीय कार्यालय में दिया नियुक्ति पत्र

VijaySharma
0
बाघमारा (धनबाद) जनता श्रमिक संघ का प्रयास एक बार फिर रंग लाया है। धनबाद के बाघमारा में बीसीसीएल कर्मी अनिल चौहान के मौत होने पर शव के साथ धरना पर अश्रितो के साथ जनता श्रमिक संघ के पदाधिकारी बीसीसीएल प्रबंधन के खिलाफ पिछले 48 घंटो तक डटे रहे,जिसके परिणाम स्वरूप बीसीसीएल ब्लॉक दो क्षेत्रीय कार्यालय में गुरुवार की देर रात मृतक के आश्रित को प्रोविजनल नियुक्ति पत्र बीसीसीएल प्रबंधन द्वारा दिया गया।मौके पर जनता श्रमिक संघ के केंद्रीय उपाध्यक्ष प्रदीप सिन्हा,दीपक चौहान, मनोज चौहान,विशाल बरनवाल, महादेव महतो,कन्हैया चौहान,शुभम यादव तथा बाल्मिकी यादव सहित अन्य यूनियन प्रतिनिधि मौजूद रहे।
ज्ञात हो की बीसीसीएल मधुबन कोलवाशरी में काम करने वाले अनिल चौहान की मौत सेंट्रल अस्पताल में इलाज के दौरान मंगलवार की देर रात को हो गई थी।जिसके बाद मृतक के परिजन एवं जनता श्रमिक संघ के पदाधिकारी शव के साथ बीओसीपी 14 नम्बर हाजरी घर के सामने परियोजना का काम बाधित कर धरना पर बैठ गए थे।बुधवार से गुरुवार देर रात तक शव रखे जाने के बावजूद नियोजन और मुआवजे को लेकर बीसीसीएल प्रबंधन द्वारा कोई पहल नही किया गया।संयुक्त मोर्चा यूनियन प्रतिनिधियों के वार्ता के बाद भी बीसीसीएल नियोजन देने में आनाकानी करती रही।वही कुछ यूनियन अपना श्रेय लेने के चक्कर मे भी लगी रही।वही मृतक पुत्र ने कहा कि जनता श्रमिक संघ के सार्थक प्रयास से 48 घण्टे के बाद बीसीसीएल प्रबंधन द्वारा नियुक्ति पत्र दिया गया है।
वही जनता श्रमिक संघ केंद्रीय उपाध्यक्ष ने कहा की बीसीसीएल प्रबंधन शव पर राजनीति करती है,जो बिल्कुल सही नही है।जनता श्रमिक संघ की महामंत्री श्रीमती रागिनी सिंह ने बीसीसीएल सीएमडी से बात की जिसके बाद नियोजन और मुआवजे पर सहमति बनी।जिसके उपरांत बीसीसीएल प्रबंधन ने मृतक के पुत्र सीताराम चौहान को नियोजन नियुक्ति पत्र दिया गया lबीसीसीएल ब्लॉक दो के जीएम चितरंजन कुमार ने कहा कि शव उत्खनन स्थल के समीप रखे जाने से उत्पादन बाधित हुआ है,जिससे काफी नुकसान हुआ है।48 घण्टे बाद बीसीसीएल की संवेदना जगी, के सवाल पर कहा कि नियम पूर्वक नियोजन  बीसीसीएल मृतक परिजन को दिया गया है।बीसीसीएल प्रबंधन ने मानवीय परिस्थितियों को देख नियोजन दी है।
स्टेट ब्यूरो निशा कुमारी 
झारखंड

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)